21वीं सूत्रधार होली संध्या देवसदन में बड़ी धूमधाम से मनाया

{पुष्पा शर्मा- न्यूज़ प्लस- कुल्लू }- सूत्रधार कला संगम ने हर वर्ष की भांति इस बार भी होली गायन की परम्परा को निभाते हुए 21वीं सूत्रधार होली संध्या कार्यक्रम का आयोजन देवसदन कुल्लू के सभागार में बड़ी धूमधाम से किया गया। इस 21वीं सूत्रधार होली संध्या कार्यक्रम में श्रीमती धनेश्वरी ठाकुर सदस्या जिला परिषद, महामंत्री महिला मोर्चा भाजपा हि०प्र० एवं पूर्व अध्यक्षा महिला आयोग हि०प्र० ने मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्यातिथि के कर-कमलों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से की गई। ततपश्चात कुल्लवी परम्परा के अनुसार संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन ने मुख्यातिथि का स्वागत कुल्लवी टोपी, शाल व स्मृति चिन्ह देकर किया गया। इस अवसर पर इस होली संध्या में पधारे हिमाचल के सुप्रसिद्ध रुद्राक्ष बैंड के अजय टींका, अरबिंद कौशल प्रिंस, चन्द्रदत्त, मनजीत चौहान व आशीष वर्मा को भी होली संध्या में उनकी मनमोहक प्रस्तुति के लिए स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस संगीतमयी कार्यक्रम को रसीला बनाने में संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व संगीत प्रभारी यनिन्द्र कपूर, संगीत सहप्रभारी प्रदीप कपूर तथा प्राचार्य संगीत अकादमी पं० विद्यासागर का सफल योगदान रहा। कार्यक्रम के स्वागत भाषण में संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन ने मुख्यातिथि, मिडिया तथा आये हुए सभी मेहमानों का स्वागत किया। कार्यक्रम में कुल्लू के प्रचलित पारम्परिक होली गीतों तथा राम कुमार कपूर के द्वारा रचित होलियों का गायन सूत्रधार कला संगम के कलाकारों द्वारा किया गया। कार्यक्रम में कलाकारों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति देकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया, जिसमें आज अबध पुरी में, मत मारो पिचकारी मैं तो सगरी रे भीज गई, खेलत है जगदम्बे, मैं न खेलती थी शाम से, मत मारो दृघन की चोट, मैंने रंग ली, तू वावरी बन आई, रंगी सारी गुलाबी चुनरिया रे, गगर सारी डार गयो, नऊंई चिड़ी ज़ेबे बूटी न वाशली, लेके नई उमंग, खेले मशाने में होली दिगम्बर, कैलाश बसे शिव जटाधारी, आज किती न कन्ते मेरी याद तथा आया फाल्गुन महिना आदि होली गीतों की प्रस्तुती दी गई। अपनी गायकी से प्रदीप कपूर, लाल सिंह, जीवन, सुनील, अभिनंदन, अंकुश, मोहित, संजय, ध्रुव, निखिल, भूपेन्द्र, टिंकू, बबिता, शम्भ्रा, खुशबू, प्रेक्षा, आशा, करिश्मा तथा पायल ने दर्शकों का दिल जीत लिया। कार्यक्रम में वर्षा ने मुर्शिद खेले होली तथा रिया ने होली आई रे कन्हाई पर नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति पेश की। इस 21वीं सूत्रधार होली संध्या के कार्यक्रम में मुख्यातिथि ने भाषण देते हुए कहा कि आज के युग में जबकि लोग अपनी पुरानी परम्परा को भूलते जा रहे हैं ऐसे में सूत्रधार कला संगम अपनी समृद्ध संस्कृति का संरक्षण कर रहा है। सूत्रधार कला संगम होली संध्या के अतिरिक्त सूत्रधार संगीत अकादमी, नृत्य अकादमी के साथ-साथ समाज सेवा तथा कई विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करता रहता है, वहीँ दूसरी ओर अनेक प्रकार की प्रतिभाओं को आगे बढानें में सूत्रधार हमेशा से कारगर रहा है। इस सम्पूर्ण कार्यक्रम का मंच संचालन संस्था के महासचिव सुंदर श्याम महंत द्वारा बखूबी निभाया गया। कार्यक्रम में जिला लोक संपर्क अधिकारी  प्रेम ठाकुर, अनिल गुलरिया, पं० जगन्नाथ, युवराज फकीरू, नगर परिषद कुल्लू के पूर्व एवं वर्तमान पार्षद, विभिन्न ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधि तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम की व्यवस्था को संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन सहित वरिष्ठ उपाध्यक्ष यनिन्द्र कपूर, उपाध्यक्ष कंवर वीरेंद्र सिंह, वित्त सचिव विजय गोयल, प्रैस सचिव राजेश शानू, सचिव मोनिका सागर व मंजू शर्मा, नाटक प्रभारी अतुल गुप्ता, भण्डार प्रभारी तिलक राज, संगीत सहप्रभारी प्रदीप कपूर व यशोदा शर्मा, वित्त सहसचिव जोंगेंद्र ठाकुर, नाटक सहप्रभारी केतन वर्मा, लोकनृत्य सहप्रभारी सीमा शर्मा, कोष्ठाध्य्क्ष मंजू शर्मा, प्राचार्य संगीत अकादमी पं० विद्या सागर, आधुनिक नृत्य प्रशिक्षक सुरेश बौध, प्रबंधक उत्तम चन्दव सुरेश शर्मा, साउंड इंजीनियर नीरज बोबी तथा तेजा सिंह ने बड़ी बखूबी से निभाया।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s