मंगल वार को 85 गांव के सैंकड़ों लोग उतरें सड़कों पर-देखिए पुरी घटना का वीडियो

( कुल्लू से डी.आर.गौतम एवं विनोद कुमार की रिपोर्ट) कुल्लू जिला के बंजार उपमंडल के तहत आने वाली थाटिवीड़ पंचायत में फागली उत्सव में हुआ विवाद मंगलवा को कुल्लू पंहुच गया अखिल भारतिय क्षत्रिय महासभा तथा गोपालपुर थाटिवीड़ चकुरठा तथा कोटला पंचायत के संयुक्त तत्वधान में लगभग 85 गांव के सैकड़ो लोगों ने भारी वारिश के वीच कुल्लू में जोरदार धरना प्रदर्षन किया तथा उपायुक्त के माध्यम से राश्ट्रपती कोज्ञापन भी सौपा वहीं ज्ञापन सौपने के वाद अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के प्रदेष उपाध्यक्ष जितेन्द्र राजपुत ने पत्रकारों से वात करते हुए कहा कि देव कामदारों पर जो आरोप लगाए गए हैं वह पुर्णतः निराधार है पत्रकारों को संबोधित करते हुए जितेन्द्र राजपुत ने कहा कि इस उत्सव में सभी जाती तथा समुदाय के लोग षामिल होते हैं और यहां किसी भी तरह को कोई भेद भाव किसी से भी नहीं होता और जिस नरगिस के फूलों के गुच्छे की बात की जा रही है उसे केवल दलित समुदाय के व्यक्ति को ही फेंकने का अधिकार अतः जो फूल अपवित्र होने का आरोप लगाया जा रहा है वह पुर्णतः अधार हीन है उन्होने कहा कि आज से कुछ बर्श पुर्व भी एक दलित व्यक्ति ने इस गुच्छे को पकड़ा था तब भी कोई विरोध नहीं था आज भी कोई विरोध नहीं है हां यह वात सही है कि देव परंपरा के अनुसार इस गुच्छे को पकड़ने का अधिकर पिछले हजारों बर्शो से पटौला,नरहुली, षिकारीवीड, तथा चकुरठा गांव के लोगों के पास ही है। यहां तक कि जिस गांव में यह उत्सव होता है उस गांव के लोगों को भी इसे पकड़ने का कोई अधिकार नहीं है। किंतु आज से लगभग 20 बर्श पुर्व लोगों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मेला कमेटी ने यहां एक षुल्क तय किया कि यदि उपरोक्त गांव में कोई भी व्यक्ति इन फूलों को पकड़ता है तो उसे 551 रू की राषी देव कोश में जमा करनी होगी। इन गांव के अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति इस गुच्छे को पकड़ता है तो उसे देव कोश में 5051 रू की राषी जमा करनी होती है। किंतु आरोप कर्ता ने आरोप लगाया है कि उससे जुर्माने के रूप में 5051 रू की राषी वसुली गई जो कि विलकुल गलत है और इसके गवाह हजारों लोग है। वहीं उन्होने कहा कि षिकायत कर्ता ने आरोप लगाया है कि देव कामदारों ने उसे पिटने का आदेष दिया जो सरासर गलत है वल्कि मेला कमेटी के लोगों ने उस व्यक्ति को भीड़ में हो रही हाथा पाई से सुरक्षित निकाला और उसे पुरे मान सम्मान के साथ देव कामदारों के वीच लाया गया इस बात के हजारों लोग गवाह हैं जो वहां मौजुद थे। उन्होंने कहा कि विना किसी अधार पर देव कामदारों पर एससी, एसटी एक्ट लगाया है और यह सिर्फ एससी एसटी एक्ट का खुले आम दुरोपयोग है अतः इस तरह के काले कानुन पर तुरंत संशोधन किया जाना चाहिए ताकि कोई वेकसुर इस कानुन की भेंट न चढ़ जाए। साथ ही उन्होने कहा कि इस मामले की निश्पक्ष जांच हो वहीं स्थानिय पंचायत के पुर्व उपप्रधान दिवान वर्मा ने जानकारी देते हुए वताया कि हमारा किसी जाती समुदाय से कोई विरोध नहीं है और जो भी माले लोगों पर लगाए जा रह है वह विलकुल निराधार है क्यांेकि जिस तरह के आरोप लगाए गए है वह पुर्णतः निराधार है और दकव कामदारों को विना वजह फंसाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कुछ लोगों ने एसएीएसटी एक्ट का दुरपयोग किया है वह सरासर गलत है। और इसमें वेगुनाह देव कामदारों को विना वजह की परेषानी का सामना करना पड़ रहा है।

देखिए पुरी घटना का वीडियो

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s